होलिका दहन के लिए लकड़ी छोड़िए, बायोमस ब्रिकिट का करें प्रयोग, प्रदूषण भी रुकेगा और पेड़ भी बचेंगे

होलिका दहन के लिए अब लकड़ी के सहारे नहीं रहना पड़ेगा। इसके विकल्प के तौर पर बायोमस ब्रिकिट तैयार की गई है। यह बिल्कुल लकड़ी की तरह होती है और वैसे ही जलाई जाती है। इसे बायोगैस लरी से बनाया गया है जो गोबर से बनने वाली बायो गैस में कचरे के रूप में निकलती है। इसका दाम लगभग लकड़ी के बराबर ही है। खास बात है कि बायोमस ब्रिकिट के प्रयोग से एक तरफ पेड़ों की कटान पर रोक लगेगी तो वहीं प्रदूषण का खतरा भी कम हो जाएगा। फिलहाल इसका कई इंडस्ट्रीज में बॉयलर के रूप में उपयोग किया जा रहा है।

श्याम नगर निवासी विशाल अग्रवाल ने इस अनोखी पहल की शुरुआत की है। उन्होंने सरसौल में प्लांट लगाया है। यहां गोबर से बनने वाली जैविक खाद और बायो सीएनजी तैयार की जाती है। शहर के साथ यूपी के कई जिलों में इसकी सप्लाई हो रही है। विशाल ने बताया कि बायो सीएनजी बनाने के बाद कचरे के रूप में बायो गैस लरी निकलती है, जिसका प्रयोग सामान्य खाद के रूप में करते हैं। एक दिन विचार आया कि पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त करने के लिए कुछ किया जाए। इसके लिए पेड़ों की कटान रोकने के साथ वृहद स्तर पर पौधरोपण जरूरी था। ध्यान आया कि होलिका दहन के समय बड़े स्तर पर पेड़ काटे जाते हैं, साथ ही विभिन्न फैक्ट्रियों में लकड़ी का प्रयोग किया जाता है। फिर क्या था, इसका विकल्प तलाशना शुरू कर दिया और आखिरकार सफलता मिल ही गई। विशाल के मुताबिक बायो गैस लरी कचरे के रूप में निकलती है। इसे सप्रेटर मशीन से दो भागों में बांट लिया गया। ड्राई हिस्से को सुखाकर पेड़ के तने के रूप में बनाया और बायोमस ब्रिकिट तैयार हो गई। यह बाजार में 6 रुपए प्रति किलो के रूप में उपलब्ध है। होलिका के लिए कई ऑर्डर भी मिले हैं।

कम निकलेगी कार्बन मोनो ऑक्साइड

लकड़ी और गोबर से बनने वाली बायो गैस के कचरे से बनने वाली बायोमस ब्रिकिट को जलाने पर कार्बन डाई ऑक्साइड के साथ कम मात्रा में कार्बन मोनो ऑक्साइड निकलती है। विशाल का कहना है कि लकड़ी जलाने में बड़ी मात्रा में कार्बन मोनो ऑक्साइड निकलती है जो प्रदूषण के लिहाज से ज्यादा खतरनाक होती है।

जानें यह भी

– 1200 स्थानों पर कानपुर में होता है होलिका दहन
– 100 किलो लकड़ी का उपयोग एक जगह होता है
–  6 रुपये प्रति किलो में लकड़ी होती है उपलब्ध
– 600 रुपये का खर्च आता है एक होलिका दहन में
– 6 रुपये प्रति किलो में बायोमास ब्रिकिट भी मिलती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *