फिर ब्रज में पूजा करने गए लालू के लाल तेज प्रताप, इस बार खोला वहां बार-बार जाने का राज

 बिहार में राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) लोकसभा चुनाव में हार से सकते में है, उधर पार्टी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ब्रज के मंदिरों में पूजा में लीन हैं। पूजा के लिए रवाना होने के पहले तेज प्रताप ने वहां बार-बार जाने का राज भी खोला था। उन्‍होंने कहा था कि वे वे मथुरा और वृंदावन ऊर्ज़ा हासिल करने जाते हैं।
बहन मीसा की जीत के लिए की थी पूजा
मिली जनकारी के अनुसार तेज प्रताप यादव बुधवार को ब्रज में अपने मित्र लक्ष्मण प्रसाद शर्मा के आवास पर पहुंचे। इसके बाद उन्‍होंने बहन मीसा भारती व जहनाबाद से ‘लालू राबड़ी मोर्चा’ के बैनर तले खड़े अपने प्रत्‍याशी चंद्र प्रकाश यादव की जीत के लिए ब्रज के श्रीजी मंदिर तथा कीर्ति मंदिर में विशेष पूजा की। उन्‍होंने पहले रंगीली महल परिसर स्थित कीर्ति मंदिर में, फिर श्रीजी मंदिर में मत्‍था टेका।

गायों के बीच किया ध्‍यान योग
तेज प्रताप यादव ने श्रीराधारानी मंदिर से माताजी गौशाला पहुंचकर वहां गोवंश की चरण वंदना की। उन्‍होंने करीब दो घंटे तक गायों के बीच बैठकर ध्यान योग किया।
कांटे की टक्‍कर में मीसा पराजित
इधर पटना में मतगणना में मीसा भारती व चंद्र प्रकाश यादव पराजित हो गए। आरेजेडी की मीसा भारती ने पाटलिपुत्र सीट पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) के रामकृपाल यादव को कांटे की टक्‍कर दी, लेकिन उनसे लगातार दूसरी बार हार गईं।
यहां भी इस कारण हुई आरजेडी की हार
उधर, जहानाबद में जनता दल यूनइटेड (JDU) के चंद्रेश्वर प्रसाद चंद्रवंशी ने आरजेडी के सुरेंद्र प्रसाद यादव को केवल 1711 मतों के अंतर से पराजित किया। तेज प्रताप यादव आरजेडी प्रत्‍याशी के विरोध में थे तथा उनके खिलाफ अपना प्रत्‍याशी दिया था। माना जा रहा है कि तेज प्रताप के प्रत्‍याशी ने जो वोट काटे, वे आरजेडी प्रत्‍याशी की हार का कारण बन गए।
खुद को बताया राजनीतिक व आध्यात्मिक व्‍यक्ति
पूजा के लिए रवाना होने के पहले पटना में तेज प्रताप यादव ने खुद को राजनीतिक और आध्यात्मिक व्‍यक्ति बताया था। कहा था कि वे कृष्ण और शिव के भक्त हैं। वे मथुरा और वृंदावन ऊर्ज़ा हासिल करने जाते हैं। इसका यह अर्थ नहीं कि उनका राजनीति से जुड़ाव कम हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *