पाकिस्तान से आगे निकला बांग्लादेश, ऑस्ट्रेलिया को भी चुनौती देने को तैयार

विश्वकप क्रिकेट में पाकिस्तान और श्रीलंका से आगे निकल चुका बांग्लादेश ऑस्ट्रेलिया को भी कड़ी चुनौती देने को तैयार है। टीम के बल्लेबाज और गेंदबाज  फॉर्म में हैं। एशिया महाद्वीप में बांग्लादेश पाकिस्तान और श्रीलंका को पीछे छोड़ते हुए क्रिकेट में बड़ी शक्ति के रूप में उभरा है। ऐसे में ऑस्ट्रेलिया और बांग्लादेश के बीच गुरुवार को होनेवाला मुकाबला रोमांचक हो सकता है। बांग्लादेश के प्रदर्शन को देखते हुए ऑस्ट्रेलिया इस मैच को हल्के में नहीं लेना चाहेगा, क्योंकि पाकिस्तान से 1971 में अलग होकर बने इस देश ने विश्वविजेता रहे वेस्टइंडीज और मजबूत साउथ अफ्रीका को धूल चटा अंक तालिका में पांचवे स्थान पर काबिज है। जिस तरह से बांग्लादेश लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहा है, इसे देखकर यह कहा जा सकता है कि भारत के बाद एशिया में क्रिकेट में दूसरी सबसे बड़ी शक्ति बांग्लादेश होगा।

आंकड़ों और टीम की मजबूती के लिहाज से ऑस्ट्रेलिया हर मायने में बांग्लादेश पर भारी है। ऑस्ट्रेलिया 5 मैच में चार जीत दर्ज कर दूसरे स्थान पर काबिज है, लेकिन बांग्लादेश के बल्लेबाज और गेंदबाज फॉर्म में है। इस लिहाज से बांग्लादेश उलटफेर कर सकता है। शाकिब अल हसन दो शतक और दो अर्धशतक जड़कर अपने इरादे स्पष्ट कर चुके हैं। मुश्तफिकुर रहीम भी अच्छी बल्लेबाजी कर रहे हैं। लिटन दास ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने विश्वकप के।पहले मैच में 95 रनों की नाबाद पारी खेल अपनी प्रतिभा दिखा चुके हैं। वहीं गेंदबाजी में।मोहम्मद सैफुद्दीन मुस्तफिजुर रहमान शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। शाकिब अल हासिल अबतक इस विश्वकप में सबसे अधिक रन जड़नेवाले खिलाड़ी हैं। वहीं सैफुद्दीन 9 विकेट लेकर टॉप 5 गेंदबाज में काबिज हैं। इनके अलावा भी कई क्रिकेटर अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। ऐसे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टीम जीत दर्ज कर सेमीफाइनल में प्रवेश की संभावनाओं को बनाये रखना चाहेगी। बांग्लादेश की टीम अनुभवी खिलाड़ियों से भरा हुआ है। शाकिब अल हसन ने 198 वनडे खेले हैं। मुश्तफिकुर और मोरतज़ा को 200 से अधिक वनडे खेलने का अनुभव है। तमीम इकबाल 193 और महमदुल्लाह 175 वनडे खेल चुके हैं। इस अनुभव का लाभ भी इस टीम को विश्वकप में मिल रहा है।

पाकिस्तान से दो कदम आगे निकला बांग्लादेश

अगर पाकिस्तान से बांग्लादेश की तुलना करें तो बांग्लादेश इस वर्ष काफी आगे है। इस साल बंगला देश ने 11 वनडे में 6 में जीत दर्ज की है। वहीं पाकिस्तान को 3 में जीत और 15 में हार मिली है। विश्वकप में बांग्लादेश ने 5 मैच में  2 में जीत हासिल की है। दक्षिण अफ्रीका जैसी टीम को 21 और और विश्वविजेता रहे वेस्ट इंडीज़ को एकतरफा मुकाबले में 7 विकेट से रौंद दिया। न्यूजीलैंड से महज दो विकेट से हारा। श्रीलंका से मैच नही हो पाया। इंग्लैंड ने हराया। वहीं पाकिस्तान विश्वकप के 5 मैच में महज एक जीत पाया है और इस टूर्नामेंट से बाहर होने के कगार पर है। एशिया की एक और क्रिकेट शक्ति श्रीलंका छठे स्थान पर है। जबकि बांग्लादेश इससे ऊपर।

पाकिस्तान 1975 से विश्वकप खेल रहा है, जबकि बांग्लादेश ने 1999 में पहला विश्वकप खेला। पहले विश्वकप में पाकिस्तान और स्कॉटलैंड को हराया था, लेकिन सुपर सिक्स में नहीं जा पाया था। पाकिस्तान इस वर्ल्ड कप का उपविजेता बना था। 2003 में बांग्लादेश एक भी मैच नहीं जीत पाया था। 2007 में यह टीम सुपर  आठ में गई और इसमें भी एक मैच में जीत मिली। जबकि भारत सुपर आठ में नहीं जा पाया था। 2011 में 6 में से तीन में जीत मिली। इसमे इंग्लैंड से जीत भी शामिल है। 2015 के वर्ल्ड कप के क्वार्टर फाइनल में बांग्लादेश पहुंचा। इस बार इनके प्रदर्शन को देखते हुए अंतिम चार में जाने की संभावना बढ़ गई है।

इस साल श्रीलंका 12 में से 2 वनडे जीत पाया है

श्रीलंका इस साल खेले गए 12 में से 2 वनडे ही जीत पाया है। ऐसे में  इस वर्ष श्रीलंका की स्थिति का पता लगाया जा सकता है। श्रीलंका के साथ विश्वकप में बांग्लादेश का मैच रद्द हो गया है। श्रीलंका 5 मैच में 1 जीत 2 हार और इतने ही रद्द मैच के साथ छठे  स्थान पर है। विश्वकप में इस देश की आगे की राह कांटों भरा है। अब बांग्लादेश के पाकिस्तान के साथ 5 जुलाई को होनेवाला मुकाबला काफी अहम माना जा रहा है। दोनों टीमें जीत दर्ज कर एशिया में भारत के बाद मजबूत टीम में नाम दर्ज कराने के लिए भी भिड़ेंगीं। वहीं 2 जुलाई को भारत के साथ भी मुकाबला रोचक होने की उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *