निर्भया के गुनहगारों ने 23 बार तोड़े तिहाड़ जेल के नियम, एक लाख 37 हजार रुपये कमाया मेहनताना

निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों अक्षय, पवन, विनय और मुकेश ने तिहाड़ में 23 बार जेल के कानूनों का उल्लंघन किया है। जेल में इन सभी को नियमों का उल्लंघन करने पर दंडित भी किया जा चुका है। इनमें से तीन गुनहगारों ने जेल में मेहनताना के रूप में 1 लाख 37 हजार रुपये कमाए हैं। यह जानकारी सूत्रों ने दी है। बता दें कि निर्भया के चारों दोषियों को दिल्ली की एक अदालत के फैसले के मुताबिक, 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी दी जानी है।

तिहाड़ जेल के सूत्रों के मुताबिक, जेल के नियमों को तोड़ने पर अक्षय को एक, मुकेश को तीन, पवन को आठ और विनय को 11 बार सजा दी जा चुकी है। सूत्रों का कहना है कि तिहाड़ जेल में रहने के दौरान दोषी अक्षय ने करीब 69 हजार रुपये बतौर मेहनताना कमाए। वहीं पवन ने 29 हजार और विनय ने करीब 39 हजार रुपये कमाए। मगर मुकेश ने जेल में एक भी काम नहीं किया।

विनय के पिता ने मंगलवार को विनय से तिहाड़ जेल में मुलाकात की। सूत्रों की मानें तो विनय जेल में घबराहट महसूस कर रहा है। बता दें कि विनय को इन चारों दोषियों में सबसे ज्यादा सजा मिली है। दोषियों को परिवार को फांसी की सजा से पहले दो बार मिलने की अनुमति दी गई है।

एक और दोषी अक्षय के परिवार ने पिछले नवंबर में उससे मुलाकात की थी और वह आमतौर पर उनसे फोन पर बात करता है। फांसी की तारीख की घोषणा के बाद से कोई भी उनसे मिलने नहीं आया है।

वहीं, सूत्रों ने कहा कि इन गुनहगारों को फांसी देना वाला पवन जल्लाद भी उसके जेल में ही रहेगा। वह फांसी की सजा से दो दिन पहले तिहाड़ जेल आएगा और सभी को एक साथ ही फांसी पर लटकाएगा। पवन जल्लाद को एक फांसी के 15 हजार रुपये मिलेंगे। फांसी के बाद दोषियों के शव को उनके परिवार को सौंप दिया जाएगा।

सूत्रों ने यह भी कहा कि साल 2016 में मुकेश, पवन और अक्षय ने दसवीं में एडमिशन लिया था। वे परीक्षा में बैठ भी, मगर पास नहीं पाए। गौरतलब है कि साल 2012 में 16 दिसंबर को दिल्ली में 23 साल की निर्भया का चलती बस में गैंगरेप हुआ था। इसके बाद उसकी मौत भी हो गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *